About Binarium broker - 100% B

Binarium एक दलाल है जो दुनिया भर के ब्रोकरेज बाजार में लंबे समय तक काम करता है। ब्रोकर संयुक्त राज्य, इज़राइल और यूक्रेन को छोड़कर सभी देशों के साथ काम करता है। अन्य दलालों की तुलना में मंच सहज और सुविधाजनक है।

Binarium उपयोगकर्ताओं को उपकरण प्रदान करता है
बाजार में लोकप्रिय परिसंपत्तियों के व्यापार ब्रोकर से प्रशिक्षण के लिए:
- मुद्रा जोड़े EUR / USD, AUD / JPY, GBP / USD;
- क्रिप्टोकरेंसी बीटीसी, ईटीएच, एक्सआरपी;
- तेल और कीमती धातु।

Binarium ब्रोकर शुरुआती के लिए प्रशिक्षण और व्यापार के लिए वित्तीय परिसंपत्तियों की एक विस्तृत श्रृंखला के साथ-साथ दुनिया की 9 भाषाओं में पर्याप्त रूप से उच्च-गुणवत्ता वाले ग्राहक सहायता प्रदान करता है। इसके अलावा, कंपनी के शुरुआती और नियमित ग्राहकों को प्लेटफॉर्म की बेहतर समझ के लिए पहले डिपॉजिट बोनस से सुखद आश्चर्य होगा, साथ ही 1 घंटे से धन की त्वरित निकासी होगी। आपका धन यूरोपीय बैंक खातों में रखा जाता है।

Stock Broker Kaise Bane

Stock Broker Kaise Bane, Stock Broker Kaise Bane, स्टॉक ब्रोकर कैसे बने, Stock Broker Banane Ke Liye Kya Karna Padta Hai, स्टॉक ब्रोकर कैसे बने, Stock Broker Kaise Bane, स्टॉक ब्रोकर कैसे सीखे, How to Become Stock Broker in Hindi, कैसे चुने सही शेयर ब्रोकर, शेयर बाजार में कैसे Successful Trader बन सकते हे, Stock Broker बनने के लिये कहां से करें पढ़ाई, कैसे बने सफल शेयर ब्रोकर, स्टॉक ब्रोकर में करियर कैसे बनाये, स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए क्या करना ब्रोकर से प्रशिक्षण पड़ता है, इन सभी सवालों के जवाब आपको इस पोस्ट में मिल जायेंगे.

Stock Broker Kaise Bane - स्टॉक ब्रोकर कैसे बने

Stock Broker या Share Broker अपने ग्राहक के लिए विभिन्न Companies के Shares को Commission पर खरीदने-बेचने का काम करता है. हालांकि देश भर में ऐसी बहुत सी कई बड़ी Brokerage Companies है जो खुद को सिर्फ Shares तक ही सीमित नहीं रखतीं वे अपने ग्राहक को इनके साथ Mutual Funds, Insurance, Money और बहुत सी Financial Services भी प्रदान कराती है.

Stock Broker Career का एक ऐसा क्षेत्र है जहां आगे बढ़ पाना बहुत आसान नहीं होता है जब तक कि आप इस के बारे में पूरी जानकारी न रखते हों. Stock Broker के क्षेत्र में Graduation या Post Graduation किए हुए व्यक्ति को बतौर Assistant Relationship Manager और Relationship Manager की Job मिल सकती है. Stock Broker का काम अपने ग्राहक के साथ लगातार संपर्क बनाए रखने के साथ-साथ Market के उतार-चढ़ाव की जानकारी देना होता है.

Stock Broker के रूप में Career बनाने के लिए आप किसी बड़ी Brokerage Company की Franchisee ले सकते हैं या उसका Sub Broker भी बन सकते है. एक Sub Broker के रूप में आपको अपने कारोबार के आकार के अनुरूप एक रकम अपने Broker के पास बतौर सुरक्षा रखनी पड़ती है.

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिये शैक्षिक योगयता

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिये सबसे पहले उम्मीदवार को Commerce से स्नातक पास होना अनिवार्य है तथा उसके बाद अगर कोई उम्मीदवार Post Graduate या MBA पास होता है तो वह व्यक्ति बोनस, उन्नति, या उच्च वेतन के लिए योग्य होता है.

इसके साथ ही इस क्षेत्र में आपको अपना कैरियर सफल बनाने के लिए Sensex और Nifty की भी अच्छे से जानकारी होनी चाहिए. स्टॉक ब्रोकर के क्षेत्र में अगर आप सफल होना चाहते हैं तो आपको अपने सभी Customers के साथ ईमानदारी के साथ पेश आना होगा क्योंकि यहाँ पर आपको Customers का विश्वाश बनाए रखना बहुत जरुरी होता है. इस क्षेत्र में आप लोगो के पैसे या बचत को Share Market में लगवाते है तो इसके लिए आपको उनके साथ अच्छा व्य्वहार बना कर रखना पड़ता है.

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए आवश्यक स्किल

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए वास्तव में वफ़ादार और मेहनती होना जरुरी है.

शेयर ब्रोकर को दूरदर्शिता के साथ-साथ शेयर बाजार के हर पहलू का गहन ज्ञान होना चाहिए ताकि कुछ हद तक बाजार के प्रवाह की दिशा का अनुमान लगाया जा सके.

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए अपने कर्तव्यों को कुशलतापूर्वक और प्रभावी ढंग से निर्वहन करने के लिए उन्हें व्यापार के एक से अधिक क्षेत्रों में विशेष प्रशिक्षण व्यापक ज्ञान की आवश्यकता होती है.

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए उम्मीदवार के पास ईमानदारी के साथ कड़ी मेहनत करने की क्षमता होनी चाहिए क्योंकि नौकरी के लिए कड़ी मेहनत, मन की सतर्कता, दूरदर्शिता और अनुकूलनशीलता की बहुत आवश्यकता होती है.

स्टॉक ब्रोकर कैसे बनें

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए उम्मीदवार के पास Commerce, Cconomics या Business Administration में या वित्त में एक मजबूत शिक्षा पृष्ठभूमि होनी चाहिए. स्टॉकब्रोकिंग पेशे के लिए पात्र होने के लिए देश के कई विश्वविद्यालयों द्वारा अर्थशास्त्र या वाणिज्य में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों का अनुसरण किया जा सकता है. वित्त प्रबंधक प्रबंधन के प्रतिष्ठित संस्थानों से या प्रमुख विश्वविद्यालयों के व्यवसाय प्रशासन के विभागों से वित्त में विशेषज्ञता के साथ MBA हो सकते हैं

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए उम्मीदवार को नीचे दिए गए चरणों का पालन करना होगा.

Step 1

एक स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए इच्छुक उम्मीदवार को Stock Broking और Capital Market और निवेश निवेश योजना और कई अन्य संबंधित Courses में Course करना पड़ता है जो भारत में कुछ प्रशिक्षण संस्थानों द्वारा पेश किए जाते है.

Step 2

इन Courses के माध्यम से जाने के बाद किसी को Stock Broking Company से जुड़ना पड़ता है और इसमें कम से कम 2 साल का अनुभव प्राप्त करना होता है.

Step 3

Stock Broking Company के ब्रोकर से प्रशिक्षण साथ काम करने के दौरान पर्याप्त अनुभव और ज्ञान प्राप्त करने के बाद कोई भी अकेले अपना व्यवसाय शुरू कर सकता है या संबंधित अधिकारियों से अपेक्षित अनुमति के साथ Stock Broking Company को Registered कर सकता है.

स्टॉक ब्रोकर की नौकरी का विवरण

एक Stock Broker के रूप में आपको अपने ग्राहक की Financial Profile को Manage करना होगा. आप निवेश विश्लेषकों से सलाह लेंगे उसके बाद आप अपने ग्राहक के साथ पूरे परिदृश्य पर चर्चा करेंगे कि ग्राहक के पैसे पर वापसी के रूप में सबसे अच्छा लाभ उठाने के लिए कौन से Financial Share खरीदने या बेचने है.

स्टॉक ब्रोकर में कैरियर की संभावनाएँ

स्टॉक ब्रोकर में कैरियर की संभावनाएँ बहुत अधिक मानी जाती है . 7000 से अधिक Listed Companies लगभग 6500 Brokers और 500 से अधिक निवेश बैंकरों के साथ भारत भर में लगभग 21 Operative Stock Exchange हैं जो सेबी के रूप में संक्षिप्त रूप से Stock Markets के शासी निकाय भारत के सुरक्षा और विनिमय बोर्ड के साथ Registered हैं. यदि हम इन आँकड़ों को देखते हैं तो यह आसानी से माना जा सकता है कि Stock Broking में Business की संभावनाएं उन लोगों के लिए उज्ज्वल हैं जो योग्य हैं और इस Business को संभालने के लिए पर्याप्त हैं और इसके साथ सामना करने के लिए आवश्यक व्यक्तित्व लक्षण है.

स्टॉक ब्रोकर की सैलरी

स्टॉक ब्रोकर की सैलरी काफी अच्छी होती है. स्टॉक ब्रोकर को शुरुआती में सैलरी के तौर पर 20,000 से 30,000 प्रति माह मिलते है. इसमें कुछ अनुभव प्राप्त करने के बाद वह यह 50,000 से 10,0000 प्रतिमाह और अधिक भी कमा सकता है.

Career Tips: स्टॉक मार्केट में करियर कैसे बनाएं? इन्वेस्टमेंट के साथ ऐसे कमाएं रुपये

 भारतीय शेयर बाजार में टाटा मोटर्स, हीरो मोटरकॉर्प, टीवीएस, महिंद्रा जैसे ईवी सेक्टर में कुछ महत्वपूर्ण नाम हैं.

भारतीय शेयर बाजार में टाटा मोटर्स, हीरो मोटरकॉर्प, टीवीएस, महिंद्रा जैसे ईवी सेक्टर में कुछ महत्वपूर्ण नाम हैं.

Career Tips, Stock Broker Jobs: इन दिनों बहुत लोग स्टॉक मार्केट (Stock Market Jobs) में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. कई लो . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : November 05, 2021, 14:28 IST

नई दिल्ली (Career Tips, Stock Broker Jobs). अगर आप देश-दुनिया की खबरों में दिलचस्पी रखते हैं तो शेयर मार्केट (Share Market), स्टॉक एक्सचेंज (Stock Exchange), स्टॉक ब्रोकर (Stock Broker), निफ्टी (Nifty) और सेंसेक्स (Sensex) से जरूर परिचित होंगे. कम समय में ज्यादा पैसे कमाने के लिए भी लोग अक्सर स्टॉक एक्सचेंज में पैसे निवेश करते हैं. इसे शेयर मार्केट कहा जाता है और जो व्यक्ति किसी इन्वेस्टर और शेयर मार्केट के बीच काम करता है, उसे स्टॉक ब्रोकर कहा जाता है. इस फील्ड में भी जॉब की अपार संभावनाएं मौजूद हैं (Stock Broker Jobs).

आपकी जानकारी के लिए बता दें, ब्रोकर के बिना शेयर मार्केट का बिजनेस अधूरा रहता है. स्टॉक एक्सचेंज और इन्वेस्टर के बीच स्टॉक ब्रोकर एक कड़ी की तरह काम करता है. ब्रोकर के बिना किसी भी इन्वेस्टर या निवेशक के लिए स्टॉक मार्केट में बेस्ट परफॉर्मेंस दे पाना मुश्किल है (Stock Broker Work Profile). डीमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट खोलने के लिए भी स्टॉक ब्रोकर की जरूरत पड़ती है.

शेयर मार्केट में होते हैं 2 तरह के स्टॉक ब्रोकर
शेयर मार्केट में आमतौर पर दो तरह के स्टॉक ब्रोकर होते हैं (Stock Broker Jobs). अगर आप इसमें करियर बनाना चाहते हैं तो आपको इनके बारे में जरूर पता होना चाहिए.
फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर
फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर (Full Service Stock Broker) अपने क्लाइंट्स को स्टॉक एडवाइजरी (कौन सा शेयर कब खरीदें और कब बेचें), स्टॉक खरीदने के लिए मार्जिन मनी की सुविधा, मोबाइल फोन पर ट्रेडिंग सुविधा और आईपीओ में इन्वेस्टमेंट की फैसिलिटी जैसी सर्विस देते हैं. इस सर्विस की फीस ज्यादा होती है. फुल टाइम स्टॉक ब्रोकर की कस्टमर सर्विस काफी अच्छी मानी जाती है.

डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर
ये ब्रोकर (Discount Stock Broker) अपने क्लाइंट से बहुत कम ब्रोकरेज लेकर शेयर खरीदने और बेचने की सुविधा देते हैं. इनकी फीस कम होती है. डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर अपने क्लाइंट को स्टॉक एडवाइजरी और रिसर्च की सुविधा नहीं देते हैं. किसी का अकाउंट खोलने से लेकर इनके ज्यादातर काम ऑनलाइन ही होते हैं.

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए जरूरी योग्यता
स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए फाइनेंशियल मार्केट का कोई भी कोर्स किया जा सकता है (Stock Broker Qualifications). कॉमर्स, एकाउंटेंसी, इकोनॉमिक्स, स्टेटिस्टिक्स या बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन की नॉलेज आपके लिए काफी मददगार साबित होगी. इन विषयों में ग्रेजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन करना एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का ‘एनसीएफएम कोर्स’ (NCFM Courses) ऑनलाइन सर्टिफिकेशन प्रोग्राम है. इससे चेक किया जाता है कि स्टॉक मार्केट प्रोफेशनल में फाइनेंशियल मार्केट के लिए प्रैक्टिकल नॉलेज और स्किल्स हैं या नहीं. इसमें एडमिशन लेने वाले कैंडिडेट को मैथ और इंग्लिश की अच्छी नॉलेज होनी चाहिए (Stock Broker Skills).

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए जरूरी स्किल्स
स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए एकेडमिक क्वालिफिकेशन के साथ ही अच्छी एनालिटिकल स्किल, स्ट्रॉन्ग माइंड और रिसर्च स्किल्स होना जरूरी है (Stock Broker Qualifications). इनके अलावा स्टॉक ट्रेनिंग प्रैक्टिस रूल्स और प्रोसेस की जानकारी होने के साथ ही अलग-अलग सेक्टर और इंडस्ट्री की जानकारी भी होनी चाहिए. मार्केट में आने वाले नए प्रोडक्ट्स, उनके उतार-चढ़ाव से जुड़ी लेटेस्ट जानकारी होना भी जरूरी है. इसी के प्रेशर हैंडल करना भी आना चाहिए.
इस फील्ड में एक्सपर्ट बनने के लिए अच्छी कंप्यूटर स्किल्स के साथ ही डिसीजन मेकिंग, टीम वर्क, रिसर्च एप्टिट्यूड और फाइनेंस इंडस्ट्री की जानकारी लाइफ में सक्सेस दिला सकती है (Stock Broker Skills).

स्टॉक ब्रोकर के लिए करियर की संभावनाएं
एजुकेशनल क्वालिफिकेशन और एक्सपीरियंस को बेस करते हुए इक्विटी डीलर, इक्विटी ट्रेडर (Trading Jobs), इक्विटी एडवाइजर, स्टॉक एडवाइजर, वेल्थ मैनेजर, फाइनेंशियल एनालिस्ट, इन्वेस्टमेंट एडवाइजर, सिक्योरिटी एनालिस्ट और रिस्क मैनेजर के तौर पर जॉब्स पा सकते हैं (Risk Manager Jobs). इस फील्ड में आपको स्टॉक एक्सचेंज, रेगुलेशन अथॉरिटी, फॉरेन इन्वेस्टमेंट फर्म्स, इन्वेस्टमेंट कंसल्टेंसी, म्यूचुअल फंड वाली कंपनी, ब्रोकर फर्म्स, इंश्योरेंस एजेंसी, बैंक और दूसरे इंस्टिट्यूट में भी जॉब की अपार संभावनाएं हैं (Stock Broker Career).

स्टॉक ब्रोकर की कमाई
स्टॉक ब्रोकर के तौर पर करियर बनाने के बाद आपकी सालाना सैलरी 2 लाख रुपये से 8 लाख रुपये तक हो सकती है. अगर दूसरों के अकाउंट के साथ ही आप पर्सनल इन्वेस्टमेंट भी करते हैं तो कमाई का जरिया दोगुना हो सकता है (Stock Broker Salary).

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

ABOUT STOCK MARKETS.

देश की अर्थव्यवस्था प्राय: हर क्षेत्र में तरक्की की कुलांचे भर रही है। अमेरिका तथा अन्य पश्चिमी देशों की अर्थव्यवस्था जहां मंदी के दौर से गुजर रही है, वहीं इंडियन कॉर्पोरेट कंपनियां न केवल सफलता के नए मानदंड स्थापित कर रही हैं, बल्कि पूरी दुनिया में अपनी पहचान भी बना रही हैं। ऐसे में उनके शेयर बाजार में आते ही कुछ ही घंटों में ओवर-सब्सक्राइब हो जा रहे हैं। दरअसल, अर्थव्यवस्था की मजबूती के साथ शेयर बाजार में भी अब पहले से अधिक रौनक आ गई है। यही कारण है कि अब सिर्फ बडे निवेशक ही नहीं, बल्कि आम आदमी भी पैसा बनाने के लिए इसमें निवेश करने लगा है और बाजार की गतिविधियां बढने से कुशल ब्रोकर, डीलर, सेल्स परसन, कॅप्लायंस ऑफिसर्स, इंफॉर्मेशन सिक्युरिटी ऑडिटर्स आदि की डिमांड में काफी तेजी आई है।

उल्लेखनीय है कि शेयर मार्केट काफी संवेदनशील होने के कारण इसमें सोच-समझकर निवेश करने की जरूरत होती है। चूंकि छोटे निवेशक बाजार के रुख और जिन कारणों से शेयर बाजार प्रभावित होता है, उससे सही तरीके से वाकिफ नहीं होते, इसलिए उन्हें किसी ऐसे जानकार की सेवा लेने की जरूरत महसूस होती ही है, जो उसके पैसे का सुरक्षित निवेश सुनिश्चित कर सके और इसलिए स्टॉक ब्रोकर से प्रशिक्षण ब्रोकर और इस मार्केट से जुडे अन्य जानकार लोगों की जरूरत होती है। यदि आप भी स्टॉक ब्रोकर बनने में दिलचस्पी रखते हैं, तो सबसे पहले आपको इस मार्केट के बारे में अच्छी तरह से जानना होगा। इसके लिए पहले आप किसी प्रामाणिक संस्थान से इससे संबंधित कोर्स करें। फिर उसके बाद किसी स्थापित ब्रोकर के साथ कुछ समय काम करके प्रैक्टिकल अनुभव भी हासिल कर सकते हैं। वैसे, यदि आप कैपिटल और कॅमोडिटी मार्केट में रेगुलर इनवेस्ट करने वाले जागरूक निवेशक हैं, तो आप भी स्टॉक मार्केट से संबंधित शॉर्ट-टर्म कोर्स करके अपना ज्ञान बढा सकते हैं। ऐसा करने से आप भी मार्केट की सही एनालिसिस करने में सक्षम हो सकेंगे।

क्या है स्टॉक एक्सचेंज?

स्टॉक एक्सचेंज एक ऐसा मार्केट है, जहां स्टॉक ब्रोकर्स शेयर्स, डिबेंचर्स, गवर्नमेंट्स सिक्युरिटीज, बॉन्ड्स लोगों और संस्थाओं को खरीदते व बेचते हैं। इन सिक्युरिटीज का मूल्य डिमांड और सप्लाई के आधार पर मिनट-मिनट में बदलता रहता है। देश में मुंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई), मुंबई और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई), दिल्ली दो बडे स्टॉक एक्सचेंज हैं। इसके अलावा कोलकाता, चेन्नई, बंगलुरू, अहमदाबाद, जयपुर और लखनऊ में भी स्टॉक मार्केट हैं।

क्या करते हैं स्टॉक ब्रोकर?

शेयर मार्केट में एक स्टॉक ब्रोकर डीलर, अडवाइजर या सिक्युरिटी एनालिस्ट के रूप में काम करता है। स्टॉक ब्रोकर को खुद को संबंधित स्टॉक एक्सचेंज में रजिस्टर्ड कराना होता है। स्टॉक मार्केट का मेंबर बनने के लिए लिखित परीक्षा देनी होती है और इसे उत्तीर्ण करने के बाद ट्रेनिंग भी लेनी होती है। लिखित परीक्षा में अकाउंटेंसी, कैपिटल मार्केट, सिक्युरिटी और पोर्टफोलियो एनालिसिस का टेस्ट लिया जाता है। ब्रोकर को मेंबरशिप के लिए एक निश्चित धनराशि भी सिक्युरिटी मनी के रूप में जमा करनी होती है। इसके बाद मेंबर को यह भी सुनिश्चित करना होता है कि स्टॉक मार्केट में काम करने के लिए उसके पास कम्प्यूटर, इंटरनेट आदि का इंफ्रास्ट्रक्चर है। उसे यह विकल्प भी बताना होता है कि वह एक डीलर के रूप में काम करना चाहेगा या फिर वहां पहले से कार्यरत स्टॉकब्रोकिंग फर्म के साथ एजेंट के रूप में! स्टॉक मार्केट में चार तरह के स्टॉक ब्रोकर्स होते हैं : 1. सिक्युरिटीज सेल्स रिप्रेजेंटेटिव 2. सिक्युरिटीज ट्रेडर्स 3. सिक्युरिटीज ब्रोकर्स तथा 4. सिक्युरिटीज एनालिस्ट।

किन लोगों की होती है जरूरत?

स्टॉक मार्केट में काम कर रही बडी ब्रोकिंग फर्मे ऐसे एमबीए को प्राथमिकता देती हैं, जिन्होंने फाइनैंस में स्पेशलाइजेशन किया हो या फिर वह चार्टर्ड अकाउंटेंट या चार्टर्ड फाइनैंशियल एनालिस्ट हो। इस प्रोफेशन में इकोनॉमिस्ट, अकाउंटेंट्स, फाइनैंस मैनेजर, फाइनैंशियल एनालिस्ट, कैपिटल मार्केट स्पेशलिस्ट्स, इनवेस्टमेंट ऐंड फाइनैंशियल प्लानर्स की आवश्यकता भी होती है।

ब्रोकर की बढती मांग

इंस्टीटयूट ऑफ कम्प्यूटर अकाउंटेट (आईसीए) के चेयरमैन एनके श्यामसुखा का कहना है कि स्टॉक मार्केट बिजनेस और करियर की दृष्टि से तेजी से उभरता हुआ क्षेत्र है। इसमें स्किल्ड लोगों की जबर्दस्त मांग है। वर्ष 1992-93 में जहां स्टॉक ब्रोकर्स की संख्या लगभग साढे छह हजार थी, वहीं आज इनकी संख्या बढकर करीब पंद्रह हजार हो गई है।

करें कौन-सा कोर्स?

यदि आप स्टॉक मार्केट से जुडना चाहते हैं, तो आपको एमबीए (फाइनैंस), सीए या सीएफए करना होगा। इकोनॉमिक्स या कॉमर्स में पोस्ट-ग्रेजुएशन करके भी आप इस क्षेत्र में जा सकते हैं। हां, शर्त बस यही है कि आपको वित्तीय मामलों का एक्सपर्ट होना चाहिए। वैसे, खुद स्टॉक एक्सचेंजों या अन्य प्रतिष्ठित निजी संस्थाओं द्वारा संचालित कोर्स/शॉर्ट टर्म कोर्स करके भी आप इस क्षेत्र में आ सकते हैं। आइए जानते हैं इन कोर्सो के बारे में :

पीजी डिप्लोमा इन फाइनैंशियल ऐंड इनवेस्टमेंट प्लॉनिंग : इसमें दो कोर्स हैं, एक की अवधि 12 महीने है जबकि दूसरा 6 माह का कोर्स है। इसके तहत प्रैक्टिकल ट्रेनिंग भी दी जाती है। किसी भी स्ट्रीम में ग्रेजुएट (इकोनॉमिक्स व कॉमर्स को प्राथमिकता) इसमें प्रवेश ले सकते हैं। यह कोर्स देश के कई संस्थानों में उपलब्ध है।

कैपिटल मार्केट सर्टिफिकेट प्रोग्राम : यह शॉर्ट टर्म कोर्स है, जो पूरे वर्ष चलता रहता है। इस कोर्स में कभी भी एडमिशन लिया जा सकता है। यह कोर्स मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ट्रेनिंग इंस्टीटयूट द्वारा संचालित किया जाता है। यह प्रोग्राम ऑनलाइन भी उपलब्ध है। ऑल इंडिया सेंटर फॉर कैपिटल मार्केट स्टडीज द्वारा एक वर्ष की अवधि का पोस्ट-ग्रेजुएट प्रोग्राम भी चलाया जाता है।

पोस्ट-ग्रेजुएट डिप्लोमा इन इनवेस्टमेंट मैनेजमेंट : नरसी मुंजी इंस्टीटयूट, मुंबई द्वारा चलाए जाने वाले इस कोर्स की अवधि एक वर्ष है।

डिप्लोमा इन फाइनैंशियल ऐंड इनवेस्टमेंट प्लॉनिंग : एक साल की अवधि वाला यह कॅरेस्पॉन्डेंस-कम-लेक्चर कोर्स इंस्टीटयूट ऑफ फाइनैंशियल ऐंड इनवेस्टमेंट प्लॉनिंग, मुंबई द्वारा संचालित किया जाता है। बीएलबी इंस्टीटयूट ऑफ फाइनैंशियल मार्केट (बीआईएफएम) द्वारा भी पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन फाइनैंशियल प्लानिंग ऐंड वेल्थ मैनेजमेंट प्रोग्राम चलाया जाता है। इसमें ग्रेजुएट प्रवेश ले सकते हैं। इसमें 3 ट्राइमेस्टर में 16 पेपर पढाए जाते हैं।

शॉर्ट टर्म कोर्स

कुछ प्रतिष्ठित संस्थाओं द्वारा शॉर्ट टर्म कोर्स भी संचालित किए जाते हैं। इनमें तीन महीने का स्टॉक करियर और स्टॉक बिजनेस कोर्स प्रमुख हैं। इन कोर्सो के तहत कैपिटल मार्केट मॉडयूल, डेरिवेटिव मार्केट, कॅमोडिटी मार्केट, ओडीआईएन लाइव टर्मिनल ऑपरेशन, बैक ऑफिस जॉब ऑपरेशन, फंडामेंटल एनालिसिस, टेक्निकल एनालिसिस आदि की ट्रेनिंग दी जाती है। इसके अलावा स्मार्ट इनवेस्टर (3 माह का) कोर्स भी है। ये सभी जॉब ओरिएंटेड कोर्स हैं, जिन्हें करने के बाद आप ब्रोकर फर्मो में काम पा सकते हैं।

प्रमुख संस्थान

द मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ट्रेनिंग इंस्टीटयूट 18वीं-19वीं मंजिल, मुंबई स्टॉक एक्सचेंज, दलाल स्ट्रीट, मुंबई-400 001 वेबसाइट : www.bseindia.com

इंस्टीटयूट ऑफ फाइनैंशियल एड इवेस्टमेंट प्लानिंग, बी/303, वेंटेक्स विकास, अंधेरी ईस्ट, मुंबई

द इंस्टीटयूट ऑफ कम्प्यूटर अकाउंटेंट 31, इंद्रदीप बिल्डिंग, कम्युनिटी सेंटर, अशोक विहार, नई दिल्ली-88, फोन : 011-47086000, 46056000 वेबसाइट : www.icajobguarantee.com

द नरसी मुंजी इंस्टीटयूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडी, मुंबई वेबसाइट : www.nmims.edu

द यूटीआई इंस्टीटयूट ऑफ कैपिटल मार्केट्स प्लॉट 82, सेक्टर-17, वाशी, नवी मुंबई- 400705

रेटिंग: 4.55
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 563